Recents in Beach

Bodo Poetry | Hathorkhi Hala

Bodo Poetry | Hathorkhi Hala

बर' खन्थाइ | हाथरखि हाला


मोनाबिलि
Mwnabili

                   इसान चन्द्र मसाहारि (Ishan Chandra Moshahary)


Bodo Poetry, Boro Khonthai
bobo-poetry
 


आय सिखोला मोनाबिलि

रावबो मिथिया जोंल मिथि-सिगौ

जोंदि सानैजों जादों जुलि

सोनाब जिंनि नखोराङाव

फैयो नों सोदोब मोनथाव

बिरहोनानै रैसुमै बाराव

रेशम जोमैनि दखना फैसालि।

जाब्रत मोखाङाव जिलित नांफबनाइ

हनै बै गोथाङा

बेथ नोंनि हसारनाइ खानाइनि

गेलेनाइ, जेबो नङा।

आयना बादि सम सम दै बिखायाव

मा नायदोंङै गोजों मुवाव?

सोर गानहोखो सिनदुरनि फोथाखौ

नोंनो अनजालि बिजलि?

नोंजों आंजों दै जिङाव

बिदिनो अजाइ नुलायगोरा

सिखिरि मानसिनि मेगन सेराव

जों सानैजों एरा एरा।

हाबाब सना नोंखौ आङो

जिउ होनानैबो गोसो थोयो

खोनाबाइ आङो नोंनि खुगायाव

गोसो थोनाइनि मुंसे मुलि।

                             *****

 Bodo Romantic Poem

बादारि
Badari

                इसान चन्द्र मसाहारि (Ishan Chandra Moshahary)

 

Bodo Poetry, Boro Khonthai
bobo-poetry


मोनाबिलि जाबोबाय

साना दोबैबाय

दाजावसै नोंनि नावा-

हनै बुंबाय।

हाबाब बे माबे गामि

फैबाय आं आनि बानि?”-

सोंङासै आं मिनि मिनि

ओरै जेब्ला,-

आबुं दै खावनानै,

जान्जियाव दैहु लानानै

मोखां सोमखे जानानै

थांबाय सिख्लाया।

दोमैलु खोमसि खोमसि

साना गोलैबाय,

हाबाब, मा मोजां गामि थागौ नंबाय।

                       *****

Bodo New Sad Poem

 Bodo Poetry | Boro Poems


गोसो मोब्लिप
Gwsw Mwblip

                 इसान चन्द्र मसाहारि (Ishan Chandra Moshahary)


नोंनि मोदान्नाइ रुक लानानैबो

          जेसेखि नोङो थाख्मा बाइया,

नोंहा अनसुलि गोसो थानानैबो

जेसेखि नोङो दोनखोमाबाइया,

आंनि  मेगना नुआब्लाबाबो

गोसो मेगना नुयो नोंखौ साइया माइया।

अखा मोब्लिबनाया जोमै सिंङाव

खोमसियै गोबाव थानो हाया,

नुजायो बियो दसेनि लागै

होमब्लाबो बिखौ मिथियै गैया।

बिदिनो जादों लोगो नोंबो, -

बिखाइनो गोसोजों नुयो आंबो

जेरावखि जेरैबादि नोंलाय थाया।

      ****


हायेननि सुफिन
Hayenni Sufin

                      प्रमद ब्रह्म (Pramad Brahma)

Bodo Poetry, Boro Khonthai
bobo-poetry

 

                     (1)

गुवार हायेन स्रां गेबें

       सोरगिदिं गोगोम हाजो थरथाम;

बिखाव दाबोनो नारा गोरान

       बेहेर जिं जिं शाम गोथां।

                   (2)

हाजो सायाव थ बन दान्नाइ

      हाजोजों हाजो गाबज्रि नाइ,

फोथार बारियाव बेरेत थेरेत

      फे: फु: मोसौ गांसो जानाइ:

                    (3)

फालो जिङाव हम्ब हम्ब बिमाया

      मे: मे: फिसाया लुखु लुखु,

गुमाया खन्दों दावथुवा गाबदों

      बेहाय जुगु हाबाव जुगु।

                    (4)

गा – गा दावखाया गावजों गावनो

हुरा हुरानो राइज्लाइदों,

पीरित एमफौआ थेरेत नानै

      थारसे बारा बोदेत सिनदों।

                   (5)

बारालाइ बहाबा स्रि जिराइ थदों,

      हुरा हुरा बोल आंङो

हाजो गंग्लाइनि हेबज्लाइ औवाफोरनि

          ‘सेव हांमा खोनादोंओ।

                  (6)

दहमै दहम गद दावआ

         ‘गद गद गाबज्रिखांदों

लाइनि सेराव अनजालि मासेयाबो

        ‘देद’, देद होन्नानै फिनफिन्दों।

हाबाब आंनि गोसोखौ सिन्थाइ बिसोरो बोदेतथारबाइ

मेगनाव मोदैया हांमाजों जाम नुजाफैबाइ,

आय मानोदि बिदि दसरा महरनि दसरा जिबिजोंनो

आंहा बिखाया मिथिया सवा गोरोब गोरोब बाइयो !

जानो हागौ – जरिनि सुफिना बिखायाव रिंखांफैयो,

जानो हागौ – जरिनि साइखंआ गोर्बोआव गोग्लैफैयो।

                  ****


Rhymes In Boro | बर गेलेनाय मेथाय 


बिबार खानाय
Bibar Khanai

                                 रुपनाथ ब्रह्म (Rupnath Brahma)

Bodo Poetry, Bodo Poem
bobo-poetry
 


हनै सानजाहा सोरां जाबाय।

बिबार बारियाव बिबार बारबाय।।

आगै दैसारी, लाइसारी, मोनसारी।

फै आखाय हमै हमै थांदिनि सारि सारि।।

फुरहाब जाहाब गावदां बिबार बारदों।

बिरहाब गोदोहाब हनै सिखिरि बिदै सोबदों।।

खादो आगै दैसारी, लाइसारी, मोनसारी,

दौबा सुफुं सुफुं गाम्बारी फारा फारि।।

सान जौबोला सान्दुं राब्ला –

सोनाबनि गोब्राब बार बारबोला, -

बिबारा रय रय सिरिलांगोन।

जोंलाय ओरैनो थांफिन नांगोन।।

हनै, गीयाति निमायति गयति सिख्लाफोरा।

मोखां सोमहाब सोमहाब खादों जान्जिखाफ्रा।

नायफिना जिराया खादों हागौमानि।

खागोन बिसोर दिन, बिसोर दिनै, बिबार जोबागौमानि।।

जोंलाय मानो, बिसोरनि उन जानो।

हागोन जोंबो बिसोरनि समान खानो।।

खादो आगै दैसारी लाइसारी मोनसारी।

माखां सोमहाब सोमहाब माबार फाराफारि।।

              ****

 Bodo Khonthai

आंनि खैना
Angni Khwina

                              रुपनाथ ब्रह्म (Rupnath Brahma)

                  

Bodo Poetry, Bodo Poem
bobo-poetry

                (1)

हाबाब खैना हिनजाव मोजां,

नोंलाय आंनो मा एसे मोजां।

नाइब्लाबो नाइस हाया,

अनोब्लाबो अनस हाया;

हाबाब खैना, नोंखौलाय आं अनस हाया।

                   (2)

नोंनि थाबायनाय, नोंनि जनाय –

नोंनि रायनाय, नोंनि होन्नाय, -

बेसे मोजां आंलाय बुंस हाया।

हाबाब जिउ नोंखौलाय आं अनसहाया।

                  (3)

माखाङा नायब्ला थाराय लाय,

दांनाय बिलिरनाय रिमोन्नाय।

गन्थंआ नायब्ला नारें सु

बिखायनो जादों लाजिगुसु।

जान्जिया नायब्ला मोज्लाय जान्जि –

हाथाया नायब्ला आखाय मिजि –

हाबाब राणी, हाबाब दोरबि, हाबाब आंनि जिउ।

                      (4)

खानाय रुम्बां गोदोना फांलें;

गुस्थि जारौ बिखुं बालें;

फेन्दा खिथा थालित खिथा,

मदद आदै खोमथा –

खुदुमथाव बामथाव –

दांथाव लाथाव, -

मा एसे मोजां हाबाब आंनि जिउ।

                   (5)

दखना गान्नानै सान जाहाबनायाव –

गसंब्ला नों दैजिङाव, -

सान जानायजों दखना गोजाजों –

जारौ मारौ सना मोदोमजों –

बेसे मोजां नुयो नोंखौ,

बुंस हाया आं बिखौ।

मा एसे मोजां जाहाब आंनि जिउ।

                       (6)

नायनोल मोजां नङा नों:

हाबाब खैना सोर नोंलाय?

सिङाव बिनि माबा दोङो:

मिथिबाय दिनै बिखौ आंलाय।

हाबाब सना जाहाब खैना हाबाब आंनि जिउ।

                     (7)

दसे नुवाब्ला थानो हाया

नागारनो आंखौ हाया नों:

गोब्राब जब्रा जाब्ला आंहा।

बिमानि समान नों नायो

हाबाब सना हाबाब खैना हाबाब आंनि जिउ।

                    (8)

हमनानै गोदोना मिनिब्ला

खुदुमब्ला नों आंनि खावलाय

बावो आंङो जेबो जाला

आंनि बिमा नोंङो आंलाय।

हाबाब सना हाबाब खैना हाबाब आंनि जिउ।

                       (9)

दुखुनि समाव दुखु जाब्ला

नोंलाय सना शान्ति होयो

गोसोखौ हमथानो हायाबोला

आंनि गोसोखौ सोरांहोयो।

हाबाब सना हाबाब दोरबि हाबाब आंनि जिउ।

                  (10)

खामानि जरा जेब्ला मोना,

फोरोङो हाबाब नों आंनि;

लामाखौ हमनो जेब्ला हाया,

खोन्थायो; खैना बोरै थांनो।

हाबाब सना हाबाब खैना हाबाब आंनि जिउ।

                      (11)

थैस थांसनि जुगु जुगु

नोंलाय सना आंनि लोगो

मिनिनाय गाबनाय सुखु दुखु

जेब्लाबो नों आंनि लोगो।

हाबाब सना हाबाब खैना हाबाब आंनि जिउ।

           *****

 New Bodo Romantic Poem

मोनहास'यै हौवा
Mwnhasoywi Hwuwa

                               रुपनाथ ब्रह्म (Rupnath Brahma)

Bodo Poetry, Bodo Poem
bobo-poetry
 

हाबाब सोर नोंलाय ?

गोसो सिङाव थाद थाद’,

सेरजा दामनाया गगलिंग, -

हाबाब सोर नोंलाय ?

नुहां नुवाहां नुनो थाङा

मनोहां मोनहां मोन्नो थाङा

थांनाय फैनाय मिथिसवा

हाबाब सोर नोंलाय ?

दुखुनि समाव निदान जाब्ला, -

हमथानो गोसोखौ हायाब्ला –

नोंलाय आंनि गोसोखौ सोरां होयो: !

हाबाब सुखुनि समाव बहा थायो:

नों नङाब्ला जेबो जाया

थांनानै थानो रावबो हाया

मिथिया दाबोनो मानो आंलाय;

आंनि गोसोआव सोर नोंलाय।

हाबाब हौवा सर नोंलाय ?

              *****

 

 

 Reference Book:

1. खन्थाइ-मेथाइ             रुपनाथ ब्रह्म आरो मदाराम ब्रह्म (जथायनाय)

2. खन्थाइ बिहुं                अनिल बर  (जथायनाय)

3. हाथरखि हाला             प्रम'द चन्द्र ब्रह्म (लिरगिरि)

 

 

 

 


Post a Comment

0 Comments